रांची। झारखंड में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए राज्य सरकार की ओर से संक्रमण के चेन को तोड़ने को लेकर रविवार को सख्यितां बढ़ाने का निर्णय लिया गया है। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने शनिवार को सर्वदलीय बैठक करने के बाद रविवार दोपहर को अपने आवास पर सहयोगी दल के नेताओं के साथ बैठक की। इस बैठक के बाद मुख्यमंत्री ने राज्य में कई नयी पाबंदियों की घोषणा की।
हेमंत सोरेन ने कहा कि संक्रमण के रफ्तार में कमी लाने, कोरोना संक्रमण के चेन को ब्रेक करने और इसके फैलाव पर अंकुश को लेकर अगले आदेश तक सभी स्कूलें बंद होगी, कॉलेज , कोचिंग संस्थान, प्रशिक्षण संस्थान और आटीआई तथा आंगनबाड़ी केंद्र भी बंद होंगे। उन्होंने बताया कि शादी कार्यक्रमों में 200 लोगों की उपस्थिति की संख्या को घटाकर 50 कर दिया गया है और यह आग्रह किया गया है कि कम से कम भीड़ लोग इकट्ठा करें। उन्होंने बताया कि राज्य में आगामी दिनों में स्कूल, कॉलेज, प्रवेश परीक्षा और संस्थागत परीक्षाओं को भी अगले आदेश तक स्थगित करने का आदेश दिया गया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार की ओर से विशेष परिस्थिति में समय-समय पर और भी कठोर निर्णय लिये जा सकते है। उन्होंने कहा कि लोगों से आग्रह है कि इसे बहुत हल्के में ना लें। पहले के संक्रमण से यह संक्रमण काफी अधिक घातक है, बच्चे, बूढ़े सभी इसकी चपेट में आ रहे है, इसलिए युवाओं से आग्रह है कि मौज-मस्ती बंद करें, ताकि चेन को तोड़ा जा सका और संक्रमण के फैलाव में ठहराव आये। नहीं तो आने वाला समय बहुत मुश्किल हो। मुख्यमंत्री ने कहा कि लोग यह समझ कर चले कि मिलने वाले है, वह कोरोना संक्रमित है। इसी सोच के साथ आगे बढ़े, बेवजह कोई शहर में न घूमे, विशेष परिस्थिति में ही घर से बाहर निकले और मास्क जरूर लगाये, अधिकतम दूरियां बनाये रखे, भीड़ और झुंड एकदम ना बनाये।  
हेमंत सोरेन ने कहा कि कल सर्वदलीय बैठक और आज सहयोगी दलों के साथ हुई बैठक में कुछ प्राथमिक स्तर पर निर्णय लिया गया है, राज्य की जो स्थिति है, वह मुहल्लों और गांव-शहर की स्थिति को देखकर महसूस किया जा सकता है। राज्य सरकार अपने सीमित संसाधनों के माध्यम से लोगों को स्वास्थ्य लाा कैसे दे पाये, इस दिशा में प्रयासरत है। जिला स्तर पर ऑक्सीजन युक्त बेड, आत्मरक्षक दवाईयां उपलब्ध करायी जा रही है। बड़े और प्रमुख शहरों में बेडों की संख्या भी बढ़ायी जा रही है, लेकिन बढ़ते संक्रमण के कारण यह तुरंत भर जा रहे है , अभी संक्रमण की गति में कमी नहीं आयी है। इसलिए लोग सावधान रहे।