कोरबा कानून व्यवस्था की स्थिति बनाए रखने के साथ-साथ अपराधी तत्वों को सबक सिखाने तक ही पुलिस सीमित नहीं है बल्कि वह बेहतर काम करने वालों को प्रोत्साहित भी कर रही है। बालको नगर पुलिस ने बेला गांव के रहने वाले दिलीप भगत को जरूरी सामग्री देने के साथ सम्मानित किया। दिलीप ने एक महिला की जिंदगी बचाने के साथ उसके दो बच्चों की चिंता भी समाप्त की।
     बालको नगर पुलिस थाना क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले भद्रापारा क्षेत्र में देने वाली एक महिला के साथ पारिवारिक समस्याएं थी। उसके दो बच्चे हैं। परेशानियों का निराकरण नहीं होने पर महिला अवसाद की स्थिति में पहुंच गई। 1 दिन पहले उसके द्वारा आत्मघाती कदम उठाने की कोशिश की जा रही थी। दोन्द्रों ग्राम पंचायत क्षेत्र के पास एक पेड़ को सहारा बनाने के साथ महिला अपनी जिंदगी समाप्त करने की तैयारी में थी। नजदीक में उसके दो बच्चे रो रहे थे। बेला से बालको नगर की तरफ जा रहे दिलीप भगत की नजर पड़ी तो उसने आनन-फानन में महिला को बचाया और पुलिस को इस बारे में जानकारी दी। युवक के कार्य की सराहना करते हुए नगर निरीक्षक राकेश मिश्रा ने दिलीप भगत को वैश्विक महामारी से सुरक्षित रखने के लिए जरूरी संसाधन देते हुए उसका सम्मान किया। बताया गया कि अगर 3-4 मिनट की देरी भी होती तो महिला का जीवन खतरे में पड़ सकता था और उसके बच्चों के सामने चुनौतियां पेश आ सकती थी।