अहमदाबाद | गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने आज स्पष्ट किया है कि हरिद्वार के कुंभ मेला से लौटे प्रत्येक गुजराती को आइसोलेट किया जाएगा| कुंभ मेला में गए किसी भी व्यक्ति को अपने गांव में सीधे प्रवेश नहीं मिलेगा| इसके लिए राज्य के सभी जिला कलेक्टरों को आदेश दे दिया गया है| शनिवार को मुख्यमंत्री विजय रूपाणी की अध्यक्षता में उप मुख्यमंत्री नितिन पटेल की मौजूदगी में जामनगर कलेक्ट्रेट में उच्चस्तरीय बैठक हुई| बैठक के बाद पत्रकारों से बातचीत में मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछले 15-20 दिनों में कोरोना संक्रमण तेजी से बढ़ रहा है| ऐसा नहीं है कि केवल गुजरात में कोरोना ने हाहाकार मचा रखा है| देशभर में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है| कोरोना की दूसरी लहर काफी खतरनाक है और परिवार के परिवार इसकी चपेट में आ रहे हैं| हालात को देखते हुए सभी अस्पतालों में व्यवस्था बढ़ाई जा रही हैं| पिछले एक महीने में राज्य सरकार ने 25 से 30 हजार बैड की वृद्धि की है| बैड के साथ ही 24 घंटे मेडिकल स्टाफ की भी व्यवस्था की है| संक्रमित मरीजों के उपचार में कोई रुकावट नहीं हो, इसके लिए और बैड़ के इंतजाम किए जा रहे हैं| मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रति दिन औसत 20 हजार रेमडेसिवीर इंजेक्शन प्राप्त होते हैं और उसमें प्राथमिकता तय कर दी गई है| रेमडेसिवीर इंजेक्शन का उत्पादन बढ़ाने का आदेश दिया गया है| गुजरात के सरकारी अस्पतालोंमें सबसे पहले इंजेक्शन दिए जाएंगे| राज्य के प्राइवेट अस्पतालों में उपचाराधीन मरीजों की हालत और जरूरत के मुताबिक इंजेक्शन उपलब्ध करवाए जाएंगे| उन्होंने कहा कि सार्वजनिक रूप से भी इंजेक्शन उपलब्ध होगा, लेकिन गुजरात के अस्पताल में एक भी जरूरतमंद मरीज रेमडेसिवीर इंजेक्शन के बगैर नहीं रहेगा| कोरोना से राज्य में मरने वालों की संख्या बढ़ने की बात स्वीकार करते हुए रूपाणी ने कहा कि शवों को स्मशान अग्निदाह या कब्रिस्तान में दफनाने इत्यादि के लिए भी व्यवस्था बढ़ाई गई हैं| एम्ब्युलैंस की संख्या बढ़ाने के साथ ही कड़े फैसले भी किए गए हैं| मुख्यमंत्री ने कहा कि जामनगर के अस्पताल में 1608 बैड तैयार हैं और सोमवार को अतिरिक्त 370 बैड तैयार हो जाएंगे| साथ ही ऑक्सीजन की सुविधायुक्त बैड की भी व्यवस्था की जा रही है| मुख्यमंत्री ने कहा कि कुंभ मेला में गए किसी भी व्यक्ति को अपने गांव में सीधे प्रवेश नहीं मिलेगा| राज्य के सभी कलेक्टर को आदेश दिया गया है कि कुंभ मेला से लौटे प्रत्येक व्यक्ति को आइसोलेट किया जाए और उनका आरटी-पीसीआर टेस्ट किया जाए| उन्होंने राज्य की जनता से अपील की है कि जब स्थिति सामान्य नहीं हो जाती तब तक लोग अकारण घरों से बाहर नहीं निकलें| खासकर बुजुर्ग और बच्चों के बाहर निकलना जोखिम साबित हो सकता है| लोगों से अपील है कि मास्क पहनें और कोविड नियमों का पालन करें| लोगों से वैक्सीन लेने की अपील करते हुए मुख्यमंत्री ने मौजूदा वक्त में डरने की नहीं बल्कि सतर्क रहने की जरूरत है|