मुंबई। महाराष्ट्र में कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर पहले से ज्यादा तेज होने लगी है. राज्य में पहली लहर में जितने केस नहीं आते थे, उससे कहीं ज्यादा दूसरी लहर में आ रहे हैं. आलम यह है कि राज्य के कई जिलों में आंशिक लॉकडाउन भी लगा दिए गए हैं. ऐसे में मल्टीनेशनल कंपनियों को एक बार फिर चिंता हो गई कि ऑफिस से काम करने की योजना फिर से खटाई में न पड़ जाए. पिछले साल जब लॉकडाउन लगा था तो सभी मल्टीनेशनल कंपनियों ने वर्क फ्रोम होम की इजाजत दे दी थी. पिछले एक साल से मल्टीनेशनल कंपनियों के स्टाफ वर्क फ्रोम होम से ही काम कर रहे हैं. कोरोना केस थमने के बाद ऐसा लग रहा था कि अब ऑफिस खुलने शुरू होंगे तभी दूसरी लहर आ गई. पिछले एक महीने से दूसरी लहर की रफ्तार बढ़ने लगी है. ऐसे में कई मल्टीनेशनल कंपनियों ने वर्क फ्रोम होम की मियाद को बढ़ाकर सितंबर तक कर दिया है. जिसने ऐसा नहीं किया है, वह भी इसपर गंभीरता से विचार कर रही हैं. आईटी कंपनियों का कहना है कि कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर आने के बाद अपने स्टाफ को घर से लाना और उन्हें वापस भेजना जोखिम का काम है. इसलिए हमने वर्क फ्रोम को बढ़ा दिया है.