भोपाल ।सरकार द्वारा लागू की गई स्टॉक लिमिट के विरोध में व्यापारियों ने मोर्चा खोल दिया है। भोपाल सहित पूरे प्रदेश की मंडियां शुक्रवार को बंद रही। व्यापारियों का कहना है कि शासन द्वारा मात्र 1 हजार क्विंटल अनाज का स्टॉक रखने की लिमिट तय की गई है, जो मुश्किल ही नहीं नामुमकिन है। इससे तो पूरा व्यापार ही चौपट हो जाएगा।
 छोटे व्यापारियों की दुकानों पर 10 से 20 हजार क्विंटल माल स्टॉक में रखना आम बात है, वहीं शहर की दाल मिलों सहित प्रमुख अनाज गोदामों में 45 से 50 हजार क्विंटल अनाज पड़े हुए हैं। अगर स्टॉक लिमिट की निष्पक्षता से जांच हो जाए तो कई व्यापारियों के यहां लिमिट से ज्यादा माल निकल सकता है। इसी को लेकर व्यापारियों द्वारा विरोध किया जा रहा है। किसान भी अब पहले की अपेक्षा कम माल लेकर आने लगे हैं, क्योंकि उन्हें डर है कि कब मंडी बंद हो जाए या व्यापारी हड़ताल शुरू कर दें।
उल्लेखनीय है कि पिछले दिनों भी स्टॉक लिमिट के खिलाफ व्यापारियों द्वारा विरोध का बिगुल बजाते हुए मंडी बंद कर दी गई थी, जिसको लेकर दोनों मंडियों के गेटों पर अनाज से भरे वाहन खड़े हो गए थे। इससे काफी देर तक जाम की स्थिति निर्मित हो गई थी। यहां तक कि व्यापारी भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय से भी मिलकर स्टॉक लिमिट खत्म करने पर जोर दे चुके हैं, तब उन्होंने आश्वासन दिया था कि जल्द ही इस संबंध में शासन से बात करेंगे।