चंडीगढ़ | भारत में कोरोना वायरस से जंग लगातार जारी है। टीकाकरण अभियान का दूसरा चरण शुरू हो गया है लेकिन इस बीच देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या भी एक बार फिर बढ़ने लगी है। हालांकि, अब पंजाब कोरोना वायरस का हॉटस्पॉट बनता जा रहा है। गुरुवार को राज्य में 1 हजार 71 नए कोविड केस आए जो कि नवंबर 2020 के बाद से सबसे ज्यादा हैं।

पंजाब में रोजाना आने वाले ऐक्टिव केसों की संख्या बढ़कर 671 पहुंच गई तो वहीं कोरोना से रोज हो रही मौतों का आंकड़ा भी 15 हो गया। सक्रिय मामलों में रोजाना हो रही बढ़ोतरी महाराष्ट्र के बाद पंजाब में ही सबसे ज्यादा है।


पंजाब के पांच जिलों में सबसे ज्यादा ऐक्टिव केस हैं। ये जिले हैं जालंधर, शहीद भगत सिंह नगर, होशियारपुर, एस.ए.एस नगर और लुधियाना। 

इन तीन राज्यों में कोरोना पर नहीं लग रही लगाम
पंजाब, कर्नाटक और केरल देश के तीन ऐसे राज्य हैं जहां कोरोना वायरस के मामले एक हजार से ऊपर हैं। पंजाब और महाराष्ट्र में जहां वायरस तेजी से फैल रहा है तो वहीं केरल में इन दोनों राज्यों की तुलना में रफ्तार थोड़ी कम है। 

परेशानी बढ़ाने वाली बात यह भी है कि पंजाब में बाकी राज्यों की तुलना में टीकाकरण भी काफी धीमी गति से हो रहा है। शुक्रवार तक पंजाब में कोरोना वायरस के टीके के लिए 4.29 लाख लाभार्थियों ने पंजीकरण करवाया था, लेकिन इनमें से सिर्फ आधों को अब तक टीका दिया गया है। ठीक ऐसा ही हाल महाराष्ट्र और केरल में भी है जहां पंजीकरण करवाने वाले लाभार्थियों में से 70-75 प्रतिशत को ही टीका दिया गया है।