युवाओं के लिए बैकिंग क्षेत्र में काम करने का आकर्षण बढ़ता जा रहा है और अब तो तकनीकी क्षेत्र से जुड़े युवा भी इस क्षेत्र में आ रहे हैं। इससे प्रतिस्पर्धा का स्तर तेजी से बढ़ रहा है। ऐसे में अगर आप बैंक में नौकरी चाहते हैं तो केवल कोचिंग के भरोसे न रहें। जब तक आप स्वयं अपडेट रहकर तैयारी नहीं करेंगे इस क्षेत्र में जाना आसान नहीं है। 
इसका कारण यह है कि पिछले 5 वर्षों में बैंकिंग क्षेत्र में देखे गए बदलावों की व्यापकता शायद अभूतपूर्व है। बैंकों सहित अन्य संगठनों को कोर बैंकिंग से जुड़े कौशलों के अलावा डिजिटल चुस्ती-फुर्ती, डेटा साइंस/एनालिटिक्स, डिजाइन थिंकिंग, साइबर जोखिम और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस जैसी नए जमाने की क्षमताओं से लैस प्रतिभाओं की जरुरत है। विशिष्ट कौशल और विशेषज्ञता प्राप्त करने के साथ ही आपको उन बुनियादी कौशलों का महत्व हमेशा याद रखना चाहिए जो बैंकिंग नौकरी को सुरक्षित करने के लिए बहुत जरूरी हैं।
बैंकिंग कार्य के लिए जरुरी कौशल :
काम के लिए तैयार होने के तहत व्यवसाय की जरूरतों को पूरा करने के लिए प्रभावी समाधान देने की क्षमता और ज्ञान का संयोजन आता है। आपमें कारोबारी माहौल की पूरी समझ होना और बदलते संदर्भ के बारे में लगातार सीखते और अपनाते रहना मायने रखता है। ग्राहकों के अनुरूप काम करने के लिए आपकी जिज्ञासा और उत्सुकता ही है, जो नए उत्पाद, सेवा और अभिनव तरीके ईजाद करने की दिशा में आगे ले जाती है। जिज्ञासु बनना और नई चीजों को सीखने और अनुकूल बनाने के लिए खुला रहना हमेशा काम आता है।
संचार कौशल: बैंकिंग उद्योग में संचार कौशल सफलता की कुंजी है। आपको मौखिक और लिखित संचार पर एक अच्छी पकड़ रखने की जरूरत है। चाहे यह बैंक की सेवाएं लेने की इच्छा के साथ आए ग्राहक को अटैंड करना हो या समस्याओं पर काम करना, या फिर किसी व्यापारिक चुनौती को लेकर चर्चा के लिए मीटिंग करने वाले क्लाइंट की बात हो; सही तरीके से संवाद करना बहुत महत्वपूर्ण है। इसलिए, बैंकिंग क्षेत्र में नौकरी
के लिए अपने आपको संवारने हेतु एक अच्छा कम्युनिकेटर होना एक अहम कौशल है।
बढ़िया पारस्परिक कौशल: इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि यह डेस्क जॉब है या फील्ड जॉब; किसी खास लक्ष्य को हासिल करने के लिए टीम का खिलाड़ी होना मायने रखता है। किसी टीम में आपको एक टीम लीडर, एक सक्रिय श्रोता, या कोई ऐसा व्यक्ति जो पूरी टीम को किसी चुनौती के लिए प्रेरित कर सके, इस तरह की कई भूमिकाएं निभानी पड़ सकती हैं। यदि आप जानते हैं कि आप इनमें से किन कौशलों में बेहतर हैं, तो अपने साक्षात्कार के दौरान उनके बारे में बात करें। मसलन, सेल्स में नौकरी के लिए आपको बढ़िया तालमेल विकसित करने और संभावित खरीदार को राजी करने के कौशल की जरूरत होगी, या फिर, एचआर में नौकरी के लिए आपको मध्यस्थता करने या प्रेरणा देने के कौशल की आवश्यकता हो सकती है।
पहले समझना, विश्लेषण करना और फिर कदम उठाना: एक ऐसी दुनिया में जहां हर मिनट अथाह डेटा आता रहता है, वहां उपयोगी डेटा का आकलन करना, उसे तर्क की कसौटी पर कसना और उसका चयन करना मायने रखता है, यानी बिग डेटा के संसार में सही डेटा चुनना। इसके अलावा, सही डेटा के चयन के लिए आपको यह भी समझना होगा कि इसे कोई उत्पाद या समाधान बनाते हुए काम में कैसे लिया जाए, ताकि बैंक की चुनौतियां कम हो सकें। यह जनसांख्यिकी की मैपिंग जहां क्रेडिट उत्पादों की दरकार होती है से लेकर  डेटा/सुरक्षा भंग की चुनौती से निपटने तक, कहीं भी हो सकता है । इसलिए:, यदि आप डेटा के साथ काम करने में सक्षम हैं और यह समझते हैं कि इसका सही इस्तेमाल कैसे किया जाए, तो आप बैंकिंग क्षेत्र की नौकरी के लिए उपयुक्त हैं।
नेतृत्व क्षमता और टीम लीडर: आपसे इन जटिलताओं के बीच आगे बढ़ने और समस्या को न्यूनतम संभव समय में हल करने तथा कुशल समाधान उपलब्ध कराने की अपेक्षा की जाती है। सीमित और आमतौर पर अधूरी जानकारियों के साथ ही विभिन्न आंतरिक/बाह्य कारकों पर निर्भरता वाले अस्पष्ट हालात में काम करने की क्षमता कोई वैसा कौशल नहीं है, जिसे महज सैद्धांतिक ज्ञान के जरिए अर्जित किया जा सके। वास्तव में, यह कौशल/क्षमता असल जीवन की समस्याओं पर काम करने और इस तरह के हर अनुभव से सीखने से मिलती है। इन सभी कौशलों का एक सकारात्मक मेल आपको बैंकिंग क्षेत्र में सही नौकरी ढूंढने के एक कदम और करीब ले जाने में मददगार होगा।