उदयपुर. जिले के गोगुंदा थाना इलाके में मंदबुद्धि युवती (Retarded girl) के साथ गैंगरेप का सनसनीखेज मामला सामने आया है. पीड़िता के परिजनों मंगलवार शाम को गोगुंदा थाने में इस संबंध में लिखित रिपोर्ट पेश की है. गैंगरेप (Gang rape) की वारदात सामने आने के बाद पुलिस अधिकारियों में हड़कंप (Stir in police) मच गया. वारदात रविवार को दोपहर में हुई बतायी जा रही है.

पुलिस के अनुसार गैंगरेप का शिकार हुई युवती 23 वर्ष की है. वह मंदबुद्धि है. उसके साथ रविवार को 3 बदमाशों ने हैवानियत की. मामले की गंभीरता को देखते हुये पुलिस अधीक्षक डॉ. राजीव पचार भी मंगलवार शाम घटनास्थल पर पहुंचे और पीड़िता के परिजनों सहित कई लोगों से बात की.

आरोपी तीनों युवक पीड़िता को पहले से जानते थे

गिर्वा पुलिस उपाधीक्षक प्रेम धनदे ने बताया कि आरोपी तीनों युवक पीड़िता को पहले से जानते थे. वे घर के पास से ही पीड़िता को अपने साथ बाइक पर बिठा कर ले गए. इसके बाद आरोपी पीड़िता को ओगणा के जंगलों में ले गए. आरोपियों ने पीड़िता के साथ पहले तो मारपीट की. फिर उसके मुंह में कपड़ा ठूंसकर उससे गैंगरेप किया. बदमाशों द्वारा की गई मारपीट से पीड़िता को हाथ और आंख के नीचे चोटें लगी है. स्थानीय प्रशासनिक कर्मचारियों के साथ एसडीएम नीलम लखारा भी मौके पर पहुंची और परिजनों मुलाकात की.


पीड़िता को इलाज के लिये उदयपुर किया रेफर

पीड़िता का गोगुंदा अस्पताल में प्राथमिक उपचार करवाया गया है. उसके बाद उसे उदयपुर के एमबी अस्पताल के लिए रेफर कर दिया गया. इधर एएसपी अनंत कुमार सहित आला पुलिस अधिकारियों ने आरोपी की तलाश के लिए तीन टीमों का गठन किया है. घटना के 2 दिन बाद परिजनों द्वारा रिपोर्ट दिए जाने के कारणों का पुलिस पता लगा रही है कि आखिर क्यों परिजनों ने इतनी देरी से रिपोर्ट दी. बताया जा रहा है कि पीड़िता के मंदबुद्धि होने से परिजन पहले इस घटना को दबाना चाह रहे थे लेकिन बाद में पड़ोसियों द्वारा समझाने पर उन्होंने मंगलवार शाम को जाकर रिपोर्ट दर्ज करवाई.