मुंबई। मुंबई से सटे अंबरनाथ और उल्हासनगर से बहने वाली वालधुनी नदी में केमिकल और टैंकर माफिया द्वार किये जा रहे प्रदूषण का मामला सोमवार को विधानसभा में जमकर गूंजा. उल्हासनगर के भाजपा विधायक कुमार आयलानी, अंबरनाथ के शिवसेना विधायक बालाजी किणिकर सहित 5 अन्य विधायकों द्वारा इस मुद्दे को उठाया गया. जिसके बाद सदन में महाराष्ट्र के पर्यावरण मंत्री आदित्य ठाकरे ने वालधुनी प्रदूषण मुद्दे पर जवाब देते हुए कहा कि, एमपीसीबी द्वारा अंबरनाथ की बायोक्ज़रा केमिकल कम्पनी पर कार्यवाही करके एफआईआर दर्ज करवाई गई है. सेंचुरी रेयॉन कम्पनी द्वारा जो टैंकर पकड़ा गया था, उल्हासनगर मनपा द्वारा  खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाई गई है. इसके अलावा एमआईडीसी द्वारा चिखलोली मोरिवली में टैंकर के विरुद्ध कार्यवाही करने हेतु 17 जगहों पर सीसीटीवी कैमरा लगाना प्रस्तावित है. वालधुनी नदी में हो रहे केमिकल और टैंकर माफिया द्वारा प्रदूषण को लेकर महाराष्ट्र के बजट अधिवेशन सत्र में उल्हासनगर की प्रदूषित  वालधुनी नदी में जहरीले रासायनिक पदार्थो, टोक्सिक केमिकल का रिसाव करके नदी के पानी में केमिकल, वायु प्रदूषण, पर्यावरण में जहर फैला कर लाखो शहरवासियों, बेजुबान पशु पक्षियों, जानवरों, पेड़ पौधों की जान से खिलवाड़ करने वाले केमिकल माफियाओं के खिलाफ सोमवार को उल्हासनगर विधानसभा क्षेत्र के विधायक कुमार आयलानी द्वारा विधानसभा में तारांकित प्रश्न द्वारा मुद्दा उठाया गया. इस संदर्भ में विधायक कुमार आयलानी ने कहा कि पिछले 2 सालों से एमपीसीबी, एमआईडीसी व अन्य सम्बंधित विभाग के अधिकारियों को पत्र व्यवहार करने पर भी कोई कारवाई नहीं हो रही है. वालधुनी नदी में केमिकल टैंकर माफिया द्वारा लगातार प्रदूषण बढ़ाया जा रहा है जिससे लोगों का स्वास्थ खतरे में है, इसलिये बजट सत्र में यह तारांकित प्रश्न द्वारा सरकार से प्रश्न उपस्थित कर स्थिती का अवलोकन करने के लिए कहा गया तब पर्यावरण मंत्री आदित्य ठाकरे द्वारा उक्त जानकारी सदन को दी गई.