कोरबा कोरबा के एम.डी. मेडिसिन डाॅ. संजय पाण्डेय ने वैक्सीन के प्रति फैली भ्रांतियों पर ध्यान नहीं देने की लोगों से अपील की है। उन्होंने कोरोना टीका से संबंधित विभिन्न भ्रांतियों को दूर किया और बताया कि यह पूरी तरह सुरक्षित है। 45 वर्ष और अधिक उम्र के लोगों को टीकाकरण अवश्य कराना चाहिए। उन्होंने कोविड वैक्सीन के बारे में पूरी जानकारी दी। उन्होंने कोविड वैक्सीन क्या है, उससे साइड इफैक्ट क्या हो सकते हैं तथा वैक्सीनेशन क्यों जरूरी है, इसके बारे में विस्तार से बताया। डाॅ. पांडे ने वैक्सीनेशन के प्रति समाज में फैले डर, शंका को दूर करने वैक्सीन की उपयोगिता को भी बताई।
*कोरोना वैक्सीन क्या है ?
डाॅ. पाण्डेय - बाहरी हानिकारक तत्वों के शरीर में प्रवेश कर जाने को एंटीजन कहते हैं। इस एंटीजन के खिलाफ शरीर की प्रतिरक्षा तंत्र के द्वारा उत्पादित तत्व को एंटीबाॅडी कहते हैं। कोरोना वैक्सीन शरीर में कोरोना वायरस के खलाफ एंटीबाडी का निर्माण करते हैं। यह एंटीबाॅडी कोरोना से बचाव के लिए करगर साबित होगी।
*क्या वैक्सीन लगाने से बुखार आयेगा ?
डाॅ. पाण्डेय - डाॅ. पाण्डेय ने वैक्सीन लगवाने से बुखार आने की बात के बारे में फैली भ्रांतियों का भी समाधान बताया। उन्होंने कहा कि जैसे बच्चों को टीका लगाने से हल्का बुखार आता है, वैसे ही कोरोना टीका लगाने में भी हल्का बुखार आ सकता है। यह बुखार पैरासिटामाॅल दवाई से ठीक हो जाता है। टीका लगने के बाद बुखार का आना शरीर में प्रतिरोधक क्षमता विकसित होने का परिणाम है। इससे डरने वाली कोई बात नहीं है।
*कोरोना वायरस के खिलाफ शरीर में एंटीबाॅडी कब विकसित होगी ?
डाॅ.  पाण्डेय - शरीर में एंटीबाॅडी कोरोना टीका का दूसरा डोज लगने के 14 दिन बाद अच्छे से विकसित होती है। इससे कोरोना के प्रति रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है।
*कोरोना वैक्सीन लगने के बाद क्या गंभीर दुष्परिणाम हो सकते हैं ?
डाॅ. पाण्डेय - कोरोना का टीका पूरी तरह सुरक्षित है। यह पूरी तरह भ्रांति है कि कोरोना वैक्सीन लगने के कारण किसी की मृत्यु हुई है। अगर किसी की मृत्यु कोरोना वैक्सीन लगाने के बाद हुई है, तो वह उसके अन्य स्वास्थ्य कारणों से हुआ है, न कि कोरोना टीका के कारण। डायबिटीज, किडनी आदि अन्य निजी स्वास्थ्य कारणों से व्यक्ति की मृत्यु हुई है, कोरोना टीका से सीधे तौर पर किसी की मृत्यु नहीं हुई है।
*कोरोना वैक्सीन लगाना क्यों जरूरी है ?
डाॅ.पाण्डेय - समाज में सभी लोगों को कोरोना का टीका लग जाने के बाद कोरोना का संक्रमण पूरी तरह से रूक जाएगा। एक-दूसरे से कोरोना नहीं फैलेगा। कोरोना वैक्सीन लगने के बाद शरीर को यह नुकसान नहीं पहुंचाएगा। हाॅस्पिटलाइजेशन से बचाया जा सकेगा तथा कोरोना टीका लगने से मृत्यु दर कम हो जाएगी। कोरोना वैक्सीन लगाकर समाज का दायित्व निभाएं और देश रक्षा में साथ दें। कोरोना टीका की भ्रांतियों से बचे और 45 वर्ष से अधिक उम्र के सभी लोग कोरोना टीका जरूर लगवाएं।