MP में 7 साल तक वैध रहेगा कंप्यूटर दक्षता का सर्टिफिकेट, सहायक ग्रेड-3 व स्टेनों की भर्ती परीक्षाओं में शामिल होने वालों को मिलेगा फायदा

स्कूल शिक्षा मंत्री इंदर सिंह परमार ने बुधवार देर शाम मंत्रालय में संचालन संबंधी समीक्षा बैठक की। जिसमें कंप्यूटर दक्षता परीक्षा (सीपीसीटी) के प्रमाणपत्र की वैधता अब 7 साल करने का निर्णय लिया गया।
परीक्षा संचालन संबंधी बैठक में लिया गया निर्णय
अभी तक सर्टिफिकेट की वैधता 4 साल तय थी

मध्य प्रदेश में कंप्यूटर दक्षता परीक्षा (सीपीसीटी) के प्रमाणपत्र की वैधता अब 7 साल रहेगी। पहले यह 4 साल हुआ करती थी। यह निर्णय बुधवार को मंत्रालय में स्कूल शिक्षा मंत्री इंदर सिंह परमार द्वारा ली गई परीक्षा संचालन संबंधी समीक्षा बैठक लिया गया। प्रमाणपत्र की वैधता अवधि बढ़ने से सहायक ग्रेड तीन, स्टेनो, डाटा एंट्री ऑपरेटर जैसे पदों की भर्ती परीक्षाओं में शामिल होने वाले छात्रों को फायदा होगा। स्कूल शिक्षा मंत्री के मुताबिक वर्तमान कोरोना काल की परिस्थितियों और परीक्षार्थियों की सहूलियत को देखते हुए यह फैसला लिया गया है। परमार ने अफसरों को निर्देश दिए कि सीपीसीटी परीक्षा सर्टिफिकेशन की व्यवस्था इस तरह बनाएं ताकि परीक्षार्थियों का स्कोर कार्ड दूसरे राज्यों की परीक्षाओं में भी मान्य हो। परीक्षाओं के संचालन की रीयल टाइम मॉनिटरिंग और त्वरित परीक्षा परिणाम जारी करने के लिए आधुनिक प्रौद्योगिकी और तकनीक को अपनाया जाए। परीक्षाओं के संचालन संबंधी सूचनाएं परीक्षार्थियों को प्रचार-प्रसार के सभी माध्यमों पर उपलब्ध कराएं।

बैठक में अपर मुख्य सचिव विनोद कुमार, सचिव विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी एम सेलवेंद्रन, निदेशक राज्य मुक्त स्कूल शिक्षा बोर्ड प्रभातराज तिवारी सहित कई अधिकारी मौजूद थे।