जयपुर । राजस्थान इस बार किसानों को 2500 करोड़ रुपए से ज्यादा के फसली ऋण बांटेगा। राज्य सरकार ने सहकारी फसली ऋण वितरण का टारगेट 16 हजार करोड़ रुपए से बढ़ाकर साढ़े 18 हजार करोड़ रुपए कर दिया है। किसानों को शून्य प्रतिशत ब्याज दर पर यह ऋण दिया जाता है। ब्याज की यह राशि केन्द्र सरकार और राज्य सरकार मिलकर वहन करती हैं।
फसली ऋण वितरण का टारगेट बढ़ाए जाने से इस बार ज्यादा किसानों को फसली ऋण मिल पाएगा। इसके साथ ही ऋण की राशि भी ज्यादा होगी। सहकारिता मंत्री उदयलाल आंजना के मुताबिक सहकारी बैंकों से जुड़े किसानों को अधिक मात्रा में अल्पकालीन फसली ऋण उपलब्ध कराने के मकसद से लक्ष्य में बढ़ोतरी की गई है। सीएम गहलोत ने बजट में 16 हजार करोड़ के अल्पकालीन फसली ऋण वितरित करने की घोषणा की थी।
सहकारिता मंत्री के अनुसार पिछले साल किसानों को 15 हजार 235 करोड़ रुपए की राशि का फसली ऋण उपलब्ध करवाया गया था। इससे करीब 26 लाख 34 हजार किसान लाभान्वित हुए थे। सहकारी बैंकों की ओर से इस साल भी 3 लाख नए किसानों को शून्य ब्याज दर पर फसली ऋण उपलब्ध करवाने का लक्ष्य रखा गया है।
नए किसानों को फसली ऋण से जोड़े जाने की भी सीएम अशोक गहलोत द्वारा घोषणा की गई थी। चालू वित्त वर्ष में 2 लाख 40 हजार नए किसानों द्वारा फसली ऋण के लिए आवेदन किया गया है। सहकारिता मंत्री उदयलाल आंजना के अनुसार इनमें 1.25 लाख किसानों को 248.69 करोड़ की राशि का ऋण शून्य ब्याज दर पर दिया जा चुका है। वहीं खरीफ 2021 सीजन में सहकारी बैंकों द्वारा कुल करीब 9360 करोड़ के फसली ऋण वितरित किए गए हैं। इसमें करीब 25 लाख 68 हजार किसानों को लाभान्वित किया गया है।