मुंबई महाराष्ट्र आतंकवाद निरोधी दस्ते (ATS) ने गुरुवार को 7 किलो यूरेनियम के साथ 2 लोगों को गिरफ्तार किया है। ठाणे से गिरफ्तार दोनों आरोपी पिछले कई दिनों से यूरेनियम बेचने के लिए खरीदार की तलाश कर रहे थे। जब्त यूरेनियम की बाजार में कीमत 21 करोड़ रुपए बताई जा रही है।

ATS अब इस बात की जांच कर रही है कि इसका इस्तेमाल क्या विस्फोटक बनाने के लिए किया जाने वाला था? जानकारी के मुताबिक, आरोपियों की पहचान अबू ताहिर (31) और जिगर पांडे (27) के रूप में हुई है। इन्होंने एक प्राइवेट लैब में इसकी टेस्टिंग भी करवाई थी।

कैसे आरोपियों तक पहुंचा प्रतिबंधित यूरेनियम?

यूरेनियम का इस्तेमाल परमाणु ऊर्जा परियोजनाओं में बिजली उत्पादन में किया जाता है। ऐसे में सवाल उठ रहा है कि प्रतिबंधित यूरेनियम की इतनी बड़ी मात्रा उन्हें कहां से और कैसे मिली? यूरेनियम का उपयोग सैन्य उद्देश्यों के लिए भी किया जाता है। ऐसे में अगर यह गलत हाथ तक पहुंच जाए, तो इसके गंभीर परिणाम हो सकते हैं।