पानीपत । पानीपत में बच्चों के साथ कुकर्म करने वाले एक शिक्षक के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था। लगभग 2 साल बीत जाने के बाद फास्ट ट्रैक कोर्ट ने आरोपी को इस मामले में सजा सुनाई है। सुमित गर्ग की फास्ट ट्रैक कोर्ट ने 377, 506 आईपीसी सेक्शन 4 & 6 व पोक्सो एक्ट के आरोपी शिक्षक को आजीवन कारावास की सजा दी। वह युवाओं को शिक्षित कर उन्हें समाज में अच्छे संस्कार और अच्छी शिक्षा देकर आगे बढ़ने का मार्ग दिखाता है, लेकिन जब यही शिक्षक उन बच्चों के साथ घिनौने कार्य करें तो कौन से माता पिता शिक्षक पर विश्वास करेंगे। ऐसा ही एक मामला पानीपत में फरवरी 2019 में आया था। 
अधिवक्ता जगदीप धनखस ने बताया कि 2 साल पहले दो बच्चों के साथ एक शिक्षक द्वारा छेड़छाड़ का मामला सामने आया था। उन्होंने बताया कि बच्चों को पेट में दर्द होने से जब डॉक्टर को दिखाया गया तो पूरे घटनाक्रम का खुलासा हुआ। आरोपी अनिल शर्मा के पड़ोस में ही यह बच्चे रहते थे। उसके पास पढ़ने जाते थे। उन्होंने बताया कि मेडिकल रिपोर्ट में एक बच्चे के साथ कुकर्म की पुष्टि हुई थी। जिसमें सुमित गर्ग की फ़ास्ट ट्रेक कोर्ट ने आरोपी को आजीवन कारावास यानि 20 साल की सजा सुनाई। न्यायालय ने अपने आदेश में आरोपी को 20 साल की सजा के साथ 50 हजार का जुर्माना भी लगाया। किसी सूरत में वह जुर्माना नहीं भरता तो यह सजा 2 साल और बढ़ जाएगी। पीड़ित पक्ष ने कहा कि जो न्यायालय ने सजा सुनाई है उसके आगे हम कुछ नहीं बोल सकते हैं। लेकिन हम इससे संतुष्ट नहीं हैं। अगर कोई शिक्षक ऐसा घिनौना कार्य करता है तो उसे फांसी की सजा होनी चाहिए।