मुंबई। कोरोना महामारी से बिगड़ रहे हालात को देखते हुए महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने केंद्र सरकार को एक पत्र लिखकर अनुरोध किया है कि वह कोविड-19 को प्राकृतिक आपदा माने जिससे सरकार राज्य प्राकृतिक आपदा कोष (एसडीआरएफ) का उपयोग प्रभावित लोगों को आर्थिक सहायता देने में करे. एक सरकारी अधिकारी ने कहा कि राज्य आपदा प्रबंधन अधिनियम का गठन केंद्रीय आपदा प्रबंधन कानून के हिस्से के तौर पर किया गया था, इसलिये महामारी प्रभावित लोगों की मदद के लिये एसडीआरएफ के उपयोग को लेकर राज्य को केंद्र सरकार की मंजूरी की आवश्यकता है. उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने केंद्र को बुधवार को यह पत्र मंजूरी के लिये लिखा है. फिलहाल बाढ़, आकाशीय बिजली गिरने की घटनाओं, भारी बारिश के जहां जान-माल का नुकसान हुआ हो, प्राकृतिक आपदा की श्रेणी में आते हैं और प्रभावित लोगों को आर्थिक मुआवजा उपलब्ध कराया जाता है. अधिकारी ने कहा, “मुख्यमंत्री ऐसे ही उद्देश्यों के लिये एसडीआरएफ का इस्तेमाल करना चाहते हैं, क्योंकि कोरोना महामारी के कारण राज्य में हजारों लोगों की आजीविका प्रभावित हुई है. हमें इसके लिये कानूनी प्रावधान की जरूरत है, इसलिये राज्य सरकार ने केंद्र को पत्र लिखा है.”