मुंबई |  कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित राज्य महाराष्ट्र में कहर जारी है। आलम यह है कि राज्य में हर घंटे कोरोना के 2 हजार नए मामले मिल रहे हैं। आंकड़ों से पता लगता है कि 2859 लोग हर मिनट कोरोना वायरस के संपर्क में आ रहे हैं और इतना ही नहीं हर तीन मिनट पर इस वायरस से एक व्यक्ति की मौत हो रही है। बता दें महाराष्ट्र हर दिन कोरोना के रिकॉर्ड मामले आ रहे हैं। रविवार को भी यहां कोरोना वायरस के 68 हजार 631 नए मामले दर्ज किए गए हैं। 

यह पहली बार है जब राज्य में एक दिन के अंदर कोरोना के इतने मामले आए हों। नए मामलों के बाद अब तक राज्य में कोरोना के कुल 38 लाख 39 हजार 338 मामले आ चुके हैं। इतना ही नहीं, रविवार को राज्य में रिकॉर्ड 503 मौतें भी दर्ज की गईं जिसके बाद कोरोना से मरने वालों का आंकड़ा 60 हजार पार पहुंच गया है। नए मामलों में से 8 हजार 468 केस मुंबई के हैं। अकेले मुंबई में ही अब तक कोरोना से 12 हजार 354 लोगों की जान गई है, जिसमें से 53 मौतें रविवार को दर्ज की गईं।

बता दें कि महाराष्ट्र में फिलहाल 'मिनी लॉकडाउन' लागू है जिसमें तमाम पाबंदियां लगाई गई हैं। हालांकि, इसका असर अभी तक नहीं दिख रहा है। राज्य में वीकेंड लॉकडाउन, धारा 144 भी लागू है। 
 
महाराष्ट्र में कोरोना के बढ़ते मामलों की वजह से स्वास्थ्य सेवाएं चरमरा गई हैं। राज्य में ऑक्सीजन की भारी कमी है। इस बीच भारतीय रेलवे ने घोषणा की है कि वह 'ऑक्सीजन एक्सप्रेस' ट्रेनों के जरिए राज्य में लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन और ऑक्सीजन सिलेंडरों की सप्लाई करेगा। 

हालांकि राज्य के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने रविवार को दावा किया है कि महाराष्ट्र में किसी भी कोरोना मरीज की मौत ऑक्सीजन की कमी के चलते नहीं हुई है। उन्होंने यह भी कहा कि कोरोना के मरीजों की मौत इसलिए हो रही है क्योंकि वे अस्पताल देरी से पहुंच रहे हैं। 

बता दें कि भारत में सोमवार को कोरोना वायरस के पौने तीन लाख नए मामले दर्ज किए गए हैं। इस दौरान 1625 मौतें भी हुई हैं। देश में कोरोना और उससे होने वाली मौतों के ये अब तक के सर्वाधिक मामले हैं।