मुंबई. भारत में कोरोना वायरस के बढ़ते कहर से सबसे ज्यादा प्रभावित महाराष्ट्र (Maharashtra) है. इसके अलावा खबरें हैं कि राज्य सरकार कोरोना के मामले में वैक्सीन स्टॉक (Vaccine Stock) की कमी समेत स्वास्थ्य व्यवस्थाओं के चलते भी परेशान है. अब कहा जा रहा है कि राज्य के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) जल्द ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) के सामने कुछ मांगें रख सकते हैं. पीएम मोदी गुरुवार शाम राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ चर्चा करेंगे.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने कहा है कि सीएम ठाकरे, पीएम नरेंद्र मोदी के सामने कुछ मांगें रखने पर विचार कर रहे हैं. उन्होंने कहा 'देश में सबसे ज्यादा टीके महाराष्ट्र में लगाए जा रहे हैं. रोजाना चार लाख टीके लग रहे हैं.' उन्होंने कहा 'हम टीकाकरण की संख्या को बढ़ाकर 6 लाख से ज्यादा कर रहे हैं.' उन्होंने दावा किया है कि सरकार के पास रोज 6 लाख लोगों को वैक्सीन देने की क्षमता है, तो उन्हें हर हफ्ते 40 लाख और हर महीने 1.60 करोड़ डोज मिलने चाहिए.

टोपे के अनुसार, इस दौरान ठाकरे हर दिन 6 लाख से ज्यादा वैक्सीन दिए जाने, ऑक्सीजन की सप्लाई बढ़ाने, रेमेडिसिविर की कीमत को नियंत्रित करने और वेंटिलेटर को ठीक करने की मांग कर सकते हैं. खास बात है कि राज्य का पुणे पहले ही सरकारी और निजी अस्पातलों में बिस्तर और वेंटिलेटर की कमी से जूझ रहा है. यहां नगर निगम ने सेना से मदद मांगी है.


स्वास्थ्य मंत्री ने पहले भी वैक्सीन की कमी की बात कही थी. उन्होंने कहा, 'कई वैक्सीन केंद्रों पर हमारे पास पर्याप्त डोज नहीं हैं और लोगों को वैक्सीन की कमी के चलते वापस भेजना पड़ रहा है.' उन्होंने बताया, 'हमने केंद्र से 20-40 साल की उम्र वाले समूह को प्राथमिकता से वैक्सीन दिए जाने की मांग की है.' टोपे ने कहा, 'हमें संदेह है कि कोई नया स्ट्रेन है, जो लोगों को कम समय में प्रभावित कर रहा है.' उन्होंने जानकारी दी है कि सैंपल्स को नेशनल सेंटर्स फॉर डिसीज कंट्रोल भेजा गया है.