हिसार. इसी महीने की 22 फरवरी को नारनौल के निकटवर्ती गांव कोजिंदा निवासी 19 वर्षीय छात्र दिनेश के हुए अपहरण (Kidnap) के मामले में नारनौल-गुरुग्राम और नूंह की सीआईए पुलिस (CIA Police) की मदद से अपहरणकर्ताओ से छात्र को सकुशल छुड़वाने में कामयाबी हासिल की है. अपहरणकर्ताओ ने छात्र को छोड़ने के नाम पर एक करोड़ रुपए की फिरौती की मांग की थी. बच्चे के अपहरण का मास्टर माइंड कोई ओर नहीं बल्कि अपहरण किए गए बच्चे के परिवार का ही एक लड़का शामिल निकला.

अपनो पर भरोसा अब कैसे किया जाए, जब अपने ही अपनो का अपहरण करवाने लग जाए नारनौल के निकटवर्ती गांव कोजिंदा निवासी दिनेश का अपहरण उसी के परिवार मे पड़ने वाले रोहित ने ही अपने अन्य साथियों के साथ मिलकर करवाया था. नारनौल उपपुलिस अधीक्षक अमरजीत सिंह ने इसका खुलासा करते हुए आज पत्रकारो को जानकारी दी कि इस मामले मे मुख्य आरोपी रोहित ने गुरुग्राम में रहने वाले चार लोगों से संपर्क किया और उन्हें बताया कि दिनेश का अगर हम अपहरण करते है तो हमे मोटी रकम मिल सकती है.

एक प्लानिंग के तहत रोहित व उसके अन्य साथियों ने 22 फरवरी को नारनौल के नजदीक गांव मंढाणा के निकट स्कूल से आते वक्त दिनेश का अपहरण कर लिया गया था और उसे गुरुग्राम में एक स्थान पर रखा हुआ था. पुलिस अधीक्षक के अनुसार अपहरणकर्ताओ ने दिनेश के परिजनों से एक करोड़ रूपए की फिरौती की मांग की. जिस पर 12 लाख रूपए में सौदा तय हो गया. पुलिस इस दौरान अपहरणकर्ताओ पर शिकंजा कसने की पूरी तैयारी में थी. पुलिस ने नारनौल-गुरुग्राम व मेवात सीआईए के सहयोग से अपहरणकर्ताओ में से दो लोगो को पकड़ने में कामयाबी हासिल की है और अपहरण किए गए बच्चे को भी सुरक्षित बरामद कर लिया है.

वहीं एक अन्य मामले मे भी जानकारी देते हुए डीएसपी अमरजीत सिंह ने बताया कि पिछले कुछ दिनो से नारनौल पुरानी सराय से भी एक बच्चा गायब है. इस मामले मे कुछ सीसीटीवी फुटेज पुलिस को मिली है. लेकिन इस बच्चे का कोई व्यक्ति अपहरण करके ले गया हो, इस तरह की कोई घटना सामने नही आई है. क्योंकि सीसीटीवी फुटेज में बच्चा अपनी मर्जी से किसी व्यक्ति के साथ ट्रक में बैठकर जाता हुआ दिखाई दे रहा है. उन्होंने कहा कि इस मामले में भी पुलिस जल्द ही खुलासा कर देगी.