हस्तरेखा ज्योतिष में जीवन रेखा का बहुत ही ज्यादा महत्व होता है। इसी रेखा से पता लगता है कि आप कब तक जीवित रहेंगे आपकी मृत्यु कब होगी। आप लंबे समय तक जीवित रह पाएंगे की नहीं। जीवन रेखा ही वो रेखा है जिससे इंसान की बीमारियों और दुर्घटना का पता लगता है कि वो इंसान को किस तरह की बिमारी हो सकती है और वो जीवन में दुर्घटनाओं का शिकार होगा की नहीं।

जीवन रेखा व्यक्ति की आयु और सेहत के बारे में बताती है। ये रेखा हथेली में इंडेक्स फिंगर और अंगूठे के बीच में से शुरू होती है और अंगूठे के निचले हिस्से तक कलाई तक जाती है। हस्तरेखा ज्योतिष के मुताबिक जीवन की रेखा देखकर व्यक्ति के जीवन में ये पता लगाया जा सकता है कि वो इंसान कब-कब दुर्घटना या बिमारियों का शिकार रहेगा।

 
जिन लोगों के हाथ में जीवन रेखा बनी होती है वो लोग बिमारियों से घिरे हुए रहते हैं। उनको आए दिन बिमारियां ही लगती रहती हैं। अगर जीवनरेखा पर कोई जंजीर होती है तो उस इंसान के जीवन में गंभीर बिमारियों का आना जाना लगा रहता है।

अगर किसी मनुष्य की जीवन रेखा ज्यादा ही पतली होती है तो वो इंसान काफी लंबे समय तक बिमार रहता है। उस इंसान को बिमारी जकड़े रहती है कभी छोड़ती ही नहीं है। यदि जीवन रेखा पर नक्षत्र का कोई चिंह होता है तो वो काफी अशुभ माना जाता है। ऐसे इंसान को गंभीर बिमारी से होकर गुजरना होता है।

किसी इंसान की जीवन रेखा की शुरुआत में काफी रेखाएं हो तो उस इंसान के जीवन में काफी उतार चढ़ाव आते हैं। वो इंसान अपने जीवन में परेशान ही रहता है। जो जीवन रेखा होती है उसके अंत में यदि कॉस बना हुआ है तो वो बहुत ही ज्यादा अशुभ माना जाता है। ये कॉस इंसान की मृत्यु के बारे में बताता है।