पटना । बिहार की राजधानी पटना एक बार फिर कोरोना का हॉटस्पॉट बनने लगा है। एक ही दिन में राजधानी में 359 कोरोना के मरीज मिले हैं, जिससे स्वास्थ्य विभाग सकते में आ गया। यही कारण है कि स्वास्थ्य विभाग अभी से ही अस्पतालों में बेड उपलब्धता पर फोकस कर रहा है। बिहार के लोगों को पटना के कुछ बड़े अस्पतालों के बेड की क्षमता और आज के दिन में बेड की उपलब्धता के बारे में पूरी जानकारी दे रहा है। पटना के सबसे बड़े अस्पताल में अभी कोविड के मरीजों के लिए 100 बेड की क्षमता है जहां तत्काल अभी 20 मरीज एडमिट हैं जबकि 80 बेड अब भी खाली हैं। उसी तरह से एनएमसीएच में भी 100 बेडों की क्षमता है, जहां अभी 13 कोरोना के पॉजिटिव मरीज एडमिट हैं। यहां 87 बेड अभी भी खाली हैं, इसके अलावे पटना के पाटलिपुत्र अशोक आइसोलेशन सेंटर में कुल 160 बेड की क्षमता है जहां अभी केवल 2 मरीज ही एडमिट हैं। इस आइसोलेशन सेंटर में अभी भी 158 बेड खाली हैं। ये जानकारियां पीएमसीएच के सुपरिटेंडेंट, एनएमसीएच के सुपरिटेंडेंट और पाटलिपुत्र अशोक आइसोलेशन सेंटर के मेडिकल ऑफिसर डॉ पंकज ने दी, जिनके मुताबिक बिहार के अस्पतालों और आइसोलेशन सेंटरों में बेड की कोई कमी नहीं है, हालांकि पटना एम्‍स में बेड से ज्यादा मरीज़ों की संख्या बढ़ गई है।एम्‍स के नोडल अधिकारी संजीव सिन्हा ने यह  जानकारी दी। उन्‍होंने बताया कि अस्‍पताल में अभी 95 कोरोना के मरीज एडमिट हैं, जबकि 80 बेड की ही अस्पताल में क्षमता है।