जोधपुर. सनसिटी जोधपुर (Jodhpur) के लिये बड़ी खुशखबरी है. जोधपुर शहर में पहला मदर मिल्क बैंक (Mother milk bank) बनकर तैयार हो गया है. इससे शहर में अब जरूरतमंद बच्चों को मां का अमृत समान दूध मिल सकेगा. शहर के नवजीवन संस्थान (Navjeevan Sansthan) में 30 लाख की लागत से यह मिल्क बैंक स्थापित किया गया है.

केन्द्र सरकार के आकड़ों के अनुसार देश में हर साल दस लाख बच्चों की मौत मां का दूध नहीं मिलने से होती है. समय पर यदि बीमार शिशु को मां का दूध मिले तो उनके जीवित रहने की संभावना को 6 गुना बढ़ाया जा सकता है.

अब माताएं अपना दूध कर सकेंगी दान

इस मदर मिल्क बैंक में माताएं अपना दूध दान कर सकेंगी. इसके लिए संस्थान ने एक एम्बुलेंस की व्यवस्था भी की है. यह एम्बुलेंस माताओं के घर जाकर उनका दूध मिल्क बैंक में लेकर आएंगी. इस मिल्क बैंक में वो माताएं दूध दान कर सकेंगी जिनके शिशु गंभीर बीमार हैं या जिन्होंने मृत शिशु को जन्म दिया है. ऐसी माताएं मिल्क बैंक में अपना दूध दान कर सकती हैं.


मिल्क बैंक के दूध से नवजात शिशुओं को होगा फायदा

दरसअल अपरिपक्वता तथा बिना मां के नवजात या बीमार मां के नवजात शिशुओं, एचआईवी पॉजिटिव मां के बच्चों और अनाथ आश्रम के बच्चों को इस मदर मिल्क बैंक से फायदा होगा. मां के दान किए हुए दूध से जरूरतमंद बच्चों का मानसिक व शारीरिक विकास होगा. इनमें रोग प्रतिरोधक क्षमता भी विकसित होगी.

यह भी होगा फायदा

इसके साथ ही सभी विटामिन और लवण की प्राप्ति के साथ एलर्जी, कोल्ड कफ, कैंसर और अस्थमा जैसी बीमारियों से बचाव भी होगा. यही नहीं दूध दान करने वाली माताओं को भी इससे फायदा होगा. जोधपुर में पहले मदर मिल्क बैंक की व्यवस्था नहीं थी. लेकिन अब शहर के मदर मिल्क बैंक बन जाने से यहां एक नई सुविधा की शुरुआत हो गई है.