जोधपुर। शहरी और ग्रामीण इलाकों में ई-मित्र केंद्रों पर गड़बड़ियों की शिकायत को लेकर जोधपुर और आसपास के केंद्रों पर बड़ी कार्रवाई की गई है। ढेर सारी गड़बड़ियों की शिकायत के बाद आईटी विभाग के 23 अधिकारियों ने बीते दिनों जिले के 52 ई-मित्र केंद्रों पर एक साथ औचक निरीक्षण किया। इस दौरान 13 ई-मित्र केंद्रों के संचालकों पर लापरवाही को लेकर जुर्माना लगाया गया, वहीं 8 केंद्रों के लाइसेंस सस्पेंड कर दिए गए।
  इन ई-मित्र केंद्रों के खिलाफ शिकायत मिली थी कि यहां से दूसरे पोर्टल के जरिये लोगों के बिजली बिल जमा किए जा रहे थे। कमीशन और निजी फायदे के चक्कर में केंद्र संचालक ऐसी हरकत करते हैं। जोधपुर व लूणी में एक साथ औचक निरीक्षण के बारे में डीओआईटी के अतिरिक्त निदेशक एसएल भाटी ने बताया कि ग्रामीण इलाकों में स्थित ई-मित्र केंद्रों की शिकायतें ज्यादा मिली थीं। इसी आधार पर विभाग ने एक साथ बड़ी कार्रवाई की योजना बनाई। उन्होंने बताया कि एसडीएम लूणी और जोधपुर द्वारा 5-5 ई-मित्र कियोस्क का औचक निरीक्षण किया गया। इनमें ई-मित्र का जियो टैगिंग नहीं होना, नई रेट लिस्ट चस्पा नहीं होना, जांच में सहयोग नहीं करने और निर्धारित स्थान से अलग काम करने जैसी शिकायतें मिली थीं। इसको लेकर जहां 13 ई-मित्र केंद्रों से जुर्माना वसूला गया, वहीं 8 केंद्रों के लाइसेंस सस्पेंड कर दिए गए।