बिलासपुर- कोरोना के बढ़ते संक्रमण को लेकर खुद प्रशासन और स्वास्थ्य महकमा गम्भीर नही है।शहर के टीकाकरण केंद्रों में सोमवार को दूसरे दिन भी वेक्सीन का टोटा पड़ा रहा। दोपहर 1 बजे तक जिला अस्पताल सहित अघिकांश टीकाकरण केंद्रों में ऐसा ही नजारा रहा, लोग भरी गर्मी में भटकते रहे और स्टाफ उन्हें कल आने के लिए कहता रहा। इधर 10 दिन बाद अवकाश से लौटे सीएमएचओ दावा कर रहे टीका आ गया है।
सवाल यह उठता है कि राष्ट्रीय महामारी में इतनी बड़ी चूक के लिए जिम्मेदार कौन है। फिर क्या मतलब लोगो से अपील और टीकाकरण के लिए प्रेरित करने का जब टीका ही रविवार से नही है। बैठके हो रही शासन से निर्देश पर निर्देश आ रहा बड़ी बड़ी बातें की जा रही। सांसद कह रहे वैक्सीन की कमी नही निरीक्षण कर जायजा भी ले रहे। संभागायुक्त और आईजी लोगो से टीका लगवाने अपील कर रहे।
महामारी के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए केन्द्र और राज्य के सयुंक्त आदेश तहत 45 वर्ष पार कर चुके लोगों का टीकाकरण किया जा रहा है, शुरू में ही वेक्सीन की कमी ने स्वास्थ्य व्यवस्था की पोल खोल कर रख दिया है।

रायपुर से 15 हजार वैक्सीन मिले हैं
मैं जिम्मेदार नहीं हूँ। हमारी तरफ से कोई चूक जैसी बात नहीं है। वैक्सीन आ गयी है, 5 दिन के हिसाब से 1 लाख वैक्सीन की मांग की गई है, परन्तु 15 हजार वैक्सीन ही रायपुर से दी गयी है।