गर्मी आते ही सब कुछ ठंडा-ठंडा अच्छा लगता है, खाने में, पहनने में, पीने में और रहने में। ठंडे-ठंडे घर  में आराम करना सभी को अच्छा लगता है। घर को कैसे कूल रखा जाये, ध्यान दें कुछ विशेष बातों पर। 
घर को कूल-कूल बनाए रखने के लिए दिन में घर की सभी खिड़कियां व दरवाजे बंद रखें। देर शाम में दरवाजे खिड़कियां खोलें क्योंकि उस समय हवा अपेक्षाकृत ठंडी होती है। 
आमने-सामने की खिड़कियां, दरवाजे शाम को खोलकर रखें ताकि हवा आर-पार चलती रहे। 
यदि कमरे मे धूप आती हो तो उसे रोकने के लिए मोटे पर्दे और ब्लाइंड्स लगवायें। बालकनी में धूप आती हो तो उसमें चिक लगवा कर धूप को रोक सकते हैं। 
घर को ठंडा बनाए रखने के लिए मिट्टी के किसी चौड़े बर्तन में पानी भर कर रखें और उसमें फूलों की पत्तियां डाल दें। पानी दिन में दो बार बदल दें। 
बिजली के उपकरण, जिनको आप प्रयोग में नहीं ला रही हैं, जैसे टय़ूब, बल्ब, प्रेस, मिक्सी आदि, इनको बंद कर दें क्योंकि इनसे वातावरण में गर्मी बढ़ती है। बल्ब का कम से कम प्रयोग करें। उसके स्थान पर टय़ूबलाइट का प्रयोग करें। 
घर में हल्के व सफेद रंग के बेड कवर, चादरों का प्रयोग करें। सफेद सूती चादरें सबसे अधिक ठंडी होती हैं। पर्दे, सोफा कवर भी सूती बिछाएं ताकि चारों तरफ ठंडा लगे। 
 कभी-कभी हरे पौधों को कमरों में बदल-बदल कर रखें ताकि वातावरण ठंडा रहे। 
कमरों में ताजगी बनाए रखने के लिए दस बूंद पिपरमिंट 100 मिली पानी में मिलाकर स्प्रे बोतल से छिड़काव करें। कमरों में ताजगी महसूस होगी। 
 प्रतिदिन घर को दो बार साफ कर पोंछा लगवायें। 
 बाहरी आंगन और बालकनी पर शाम को पानी का छिड़काव करें या पानी से अच्छी तरह धोएं ताकि बाहर से आने वाली हवा ठंडी लगे।