जमुई । जमुई में ‎पार्टी के जिला कार्यालय में किसान सत्याग्रह पदयात्रा कार्यक्रम का आयोजन किया गया था। इस कार्यक्रम में प्रदेश प्रभारी समेत कई बड़े नेता की मौजूद रहे। ले‎किन कांग्रेसी कार्यकर्ता उनके सामने आपस में ‎भिड़ गए और 45 ‎मिनट तक बवाल काटा। इस दौरान कार्यकर्ताओं के बीच हाथापाई तक की नौबत तक आ गई। बाद में कांग्रेसी नेताओं के समझाने पर मामला सामने शांत हुआ।  जानकारी के मुता‎बिक, कांग्रेस पार्टी के बिहार प्रदेश प्रभारी भक्त चरण दास इन दिनों बिहार के जिलों के दौरे पर हैं। किसान सत्याग्रह पदयात्रा कार्यक्रम के तहत बिहार प्रभारी शुक्रवार को जमुई पहुंचे थे। इस‎लिये जिला कांग्रेस भवन में सत्याग्रह कार्यक्रम का भी आयोजन किया गया था। कार्यक्रम के शुरू में ही सिकंदरा के पूर्व विधायक बंटी चौधरी ने सिकंदरा इलाके के एक कार्यकर्ता धर्मेंद्र पासवान पर विधानसभा चुनाव में निर्दलीय चुनाव लड़ने की बात पर नाराजगी जाहिर की। पूर्व विधायक बंटी चौधरी ने कहा ‎कि जब पार्टी ने उन्हें उम्मीदवार बनाया था, तो कोई कार्यकर्ता उनके खिलाफ निर्दलीय कैसे लड़ गया। इसी बात पर दूसरे खेमे के कार्यकर्ताओं ने भी पूर्व विधायक की बात का विरोध किया। जिसको लेकर दोनों पक्षों के कार्यकर्ता आपस में ही भिड़ गए और फिर जमकर हंगामा हुआ। हंगामे की वजह से बैठे हुए लोग भी खड़े हो गए और बरामदे में पहुंच गए। लगभग 45 मिनट चले हंगामे में हाथापाई तक की नौबत आ गई थी। लेकिन पार्टी के नेताओं के बीच-बचाव के बाद मामला शांत हुआ और फिर बिहार प्रदेश प्रभारी भक्त चरण दास समेत पार्टी नेताओं ने संगठन और कार्यक्रम को लेकर अपनी बातें कहीं। इस बारे में प्रदेश प्रभारी भक्त चरण दास ने बताया कि यह पार्टी के अंदर की बात है। कार्यकर्ताओं में कुछ नाराजगी थी, मतभेद था, जिसे खत्म कर दिया गया है।