अहमदाबाद | मुख्यमंत्री विजय रूपाणी और उप मुख्यमंत्री नितिनभाई पटेल की अध्यक्षता में गांधीनगर में हुई कोर कमेटी की बैठक में राज्य में बढ़ते कोरोना संक्रमण के मामलों पर नियंत्रण के संदर्भ में सात अत्यंत महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए हैं। राज्य में कोरोना संक्रमण के मौजूदा हालात में संक्रमितों के उपचार के लिए पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन सुलभ कराने की संवेदना के साथ मुख्यमंत्री ने ऑक्सीजन की सप्लाई सुनिश्चित करने की विशेष ताकीद की है। जिसके मुताबिक बैठक में यह निर्णय लिया गया है कि राज्य में ऑक्सीजन का उत्पादन करने वाले निजी उत्पादकों को अपने उत्पादन का 60 फीसदी हिस्सा कोरोना संक्रमण के नियंत्रण के लिए चिकित्सा सुविधा के उद्देश्य से स्वास्थ्य क्षेत्र को देना होगा। केवल 40 फीसदी उत्पादन की सप्लाई वे औद्योगिक इस्तेमाल के लिए ले सकेंगे। मुख्यमंत्री और उप मुख्यमंत्री ने राज्य में महानगर पालिका प्रशासन वाले अहमदाबाद, सूरत, वडोदरा, राजकोट, जूनागढ़, जामनगर, भावनगर और गांधीनगर समेत 8 महानगरों में 500-500 बिस्तरों वाला कोविड केयर सेंटर शुरू करने तथा उसके चिकित्सकीय कामकाज की देखरेख और समन्वय के लिए 8 आईएएस-आईएफएस अधिकारियों को विशेष जिम्मेदारी सौंपी है। संबंधित जिलों में आवश्यकतानुसार जिला कलक्टर और मनपा आयुक्त ऐसे डेडिकेटेड कोविड हेल्थ सेंटर या कोविड केयर सेंटर की मंजूरी दे सकेंगे। राज्य में कोविड-19 मरीजों की संख्या में लगातार हो रही बढ़ोतरी को ध्यान में रखते हुए कोर कमेटी में यह भी निर्णय लिया गया है कि राज्य में निजी नर्सिंग होम और क्लीनिक्स आई.सी.यू. या वेंटिलेटर की सुविधा के बिना भी डेडिकेटेड कोविड हेल्थ सेंटर और डेडिकेटेड कोविड केयर सेंटर शुरू कर सकते हैं। ऐसे डेडिकेटेड कोविड हेल्थ केयर सेंटर के लिए प्रतिदिन अधिकतम 2 हजार रुपए और डेडिकेटेड कोविड केयर सेंटर के लिए प्रतिदिन अधिकतम 1500 रुपए चार्ज ले सकते हैं। इस चार्ज में रेमडेसिविर इंजेक्शन की कीमत शामिल नहीं है इसलिए इस इंजेक्शन का चार्ज अलग से लिया जाएगा। मुख्यमंत्री विजय रूपाणी और उप मुख्यमंत्री नितिनभाई पटेल ने यह भी संवेदनशील निर्णय लिया है कि राज्य के सोला सिविल हॉस्पिटल, एसवीपी हॉस्पिटल अहमदाबाद, गुजरात कैंसर सोसायटी के हॉस्पिटल तथा एलजी एवं नगरी हॉस्पिटल अहमदाबाद में कोरोना संक्रमितों के लिए रेमडेसिविर इंजेक्शन आगामी तीन से पांच दिनों में ‘न लाभ न हानि’ (उचित मूल्य) के आधार पर संबंधित हॉस्पिटल के मेडिकल स्टोर्स पर उपलब्ध कराया जाएगा। कोरोना का दायरा और संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए मास्क अनिवार्य है। इतना ही नहीं, योग्य तरीके से और योग्य मास्क पहनने से संक्रमण लगने की संभावना घट जाती है। इस संदर्भ में यह हितावह है कि सभी लोग तीन लेयर वाला मास्क पहने। मुख्यमंत्री एवं उप मुख्यमंत्री ने इस पूरे मामले की गंभीरता को ध्यान में लेकर यह निर्णय किया है कि राज्य सरकार सभी कृषि उपज विपणन समिति (एपीएमसी) और अमूल पार्लर पर निकट भविष्य में तीन लेयर वाला मास्क केवल 1 रुपए की न्यूनतम दर पर उपलब्ध कराएगी। मुख्यमंत्री विजय रूपाणी व उप मुख्यमंत्री नितिनभाई पटेल की अध्यक्षता वाली इस कोर कमेटी की बैठक में राज्य की कोविड-19 कोरोना की समग्र स्थिति की नियमित रूप से समीक्षा की जाती है। इस बैठक में अतिरिक्त मुख्य सचिव एम.के.दास, स्वास्थ्य विभाग की प्रधान सचिव डॉ. जयंती रवि, खाद्य एवं औषधि आयुक्त हितेश कोषिया तथा स्वास्थ्य आयुक्त जयप्रकाश शिवहरे सहित वरिष्ठ अधिकारी भी शामिल थे।