संभल। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की संभल के कैलादेवी में हुई जनसभा के बाद समाजवादी पार्टी के नेता भावेश यादव की अगुवाई में गंगाजल छिड़ककर शुद्धिकरण के मामले में पुलिस ने 10 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। साथ ही पुलिस ने भावेश यादव को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। दरअसल, भावेश यादव ने कहा था कि मुख्यमंत्री योगी के दौरे से कैलादेवी की धरती अशुद्ध हो गई थी। इसलिए गंगाजल की छिड़काव कर उसे शुद्ध किया गया। 
  जानकारी के अनुसार जैसे ही मुख्यमंत्री की जनसभा खत्म हुई समाजवादी युवजन सभा के प्रदेश सचिव भावेश यादव ने अपने समर्थकों के साथ कैलादेवी पहुंचे और गंगाजल छिड़क कर कैलादेवी की धरती को पवित्र करने का दावा किया। सपा नेता ने कहा कि योगी आदित्यनाथ के आने से कैलादेवी में क्षेत्र अशुद्ध हो गया था जिसको उन्होंने गंगाजल छिड़क कर पवित्र किया। उन्होंने मुख्यमंत्री पर देवी देवताओं और जातिगत आधार पर लोगों से भेदभाव करने का गंभीर आरोप भी लगाया। बहजोई थाने में दी गई तहरीर पर आईपीसी की धारा 153ए, 253ए और 505 के तहत भावेश यादव व 8 से 10 अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करते हुए मुख्यारोपी को गिरफ्तार कर लिया गया। तहरीर में आरोप लगाया है कि मुख्यमंत्री की जनसभा के बाद सभास्थल को गंगाजल से शुद्ध करने से मुख्यमंत्री के प्रशसंकों में काफी रोष है। जिससे शांति भंग होने की भी आशंका है। गौरतलब है कि 21 सितंबर को मुख्यमंत्री संभल पहुंचे थे और उन्होंने एक जनसभा को भी संबोधित किया था।